प्राचीन धरोहर को संवारने आगे आया मैथिल समाज, कराया श्री गिरिराज मंदिर का जीर्णोद्धार

ग्वालियर जिले के घाटीगांव के पास स्थित ग्राम धुऑ में 400 साल पुराने एक प्राचीन मंदिर श्री गिरिराज मंदिर है जो देखरेख के आभाव में अपने अस्तित्व से दूर होता जा रहा था जिसे मैथिल ब्राह्मण ओझा झा समाज द्वारा चंदा इकठ्ठा कर मंदिर का पुनः जीर्णोद्धार कर उसकी प्राचीनता को उभारा जा रहा है जिसका जल्द ही प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम होगा विश्व में भारत एक मात्र ऐसा देश है जहां हजारों लाखों ऐतिहासिक धरोहरे है जिन्हे सरकार द्वारा संरक्षित किया होता है तो वही कई ऐसी प्राचीन धरोहर गाँवों में भी स्थित है जो देखरेख के अभाव में विलुप्त हो जाती है उन्हीं में से एक है ग्वालियर जिले के घाटीगांव के पास स्थित ग्राम धुऑ में 400 साल पुराना एक प्राचीन मंदिर श्री गिरिराज, जो देखरेख के आभाव में अपने अस्तित्व से दूर होता जा रहा था जिसे मैथिल ब्राह्मण ओझा झा समाज द्वारा चंदा इकठ्ठा कर मंदिर का पुनः जीर्णोद्धार करा कर उसकी प्राचीनता को उभारा जा रहा है जिसका जल्द ही प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम होगा। आपको बता दे की इस मंदिर में भगवान की प्रतिमा राजस्थान से मंगवाई है तो वही मंदिर जीर्णोद्धार का काम करा रही समिति के अध्यक्ष सुरेशचंद्र ओझा, महामंत्री नवलकिशोर ओझा ने बताया कि यह मंदिर मैथिल समाज के संत फाईया भगत ने बनवाया था फाईया भगत को साक्षात भगवान श्री कृष्ण के दर्शन होते थे ,तो वही 400साल से खंडर के रुप परिवर्तित हो रहे मंदिर का कायाकल्प समाज के सहयोग से मात्र 3 माह में ही हो गया है ,

Khabar Madhya Pradesh